Sitare Ke Jaise

19 Jul

गमें ज़िन्दगी का हिसाब चुका लिया हमने
तुझे देखकर थोड़ा जो मुस्कुरा लिया हमने !

अन्धेरा कहीं न हो जाए अपने घर में कभी
बनके शमाँ रात भर जगमगा लिया हमने !

चेहरा महताबी और आँखें उनकी झील सी
किस आग में दिल जला बुझा लिया हमने !

तनहा रातों की खामोशी में याद करके तुझे
एक गज़ल की मानिंद गुनगुना लिया हमने !

हुआ तारी मुझ पे नशा तेरे हुस्न का सनम
बिना पिये ही कितना डगमगा लिया हमने !

टूटने से पहले तो इस आसमां पर ‘मिलन’
एक सितारे के जैसे टिमटिमा लिया हमने !!

मिलन “मोनी”

Advertisements

3 Responses to “Sitare Ke Jaise”

  1. Priya July 23, 2017 at 7:43 am #

    Beautiful lines……

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: