Kab Batata Hai

24 May

चेहरे का हर भाव किया वादा कब बताता है
कितना दर्द है सीने में आयना कब बताता है !

क्यों तडप तडप के जान दे रहीं हैं सदियों से
इन लहरों के जज़्बात किनारा कब बताता है !

हथेली की लकीरों में लिखा सब कुछ होता है
फिरभी यह मुक़द्दर खुद इशारा कब बताता है !

मुसाफिरों को मंजिलों का इल्म हो तो बेहतर
वर्ना ले जायगा कहाँ यह रास्ता कब बताता है !

अंधेरों में भी दीपक जलाना सीख लो आखिर
कितने वक़्त हैं खुशियाँ उजाला कब बताता है !

कहते हैं कि विशवास पर ही कायम है दुनिया
कभी तक साथ दे अपना सहारा कब बताता है !

कौन यूँहीं मिल जाए और कौन कहीं खो जाए
वक़्त का मिजाज़ कोई सितारा कब बताता है !

छूते ही ‘मिलन’ तुझे तन मन सुलग जाता है
कितनी आग हो मुझ में शरारा कब बताता है !!

मिलन “मोनी”
२४/५/२०१७

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: