Nahi Karte

22 May

हम उनकी निगाहों का कहा टाला नहीं करते
और किसी शरारत का बुरा माना नहीं करते !

मिलते नहीं तो कितने बरस तक नहीं मिलते
फिर भी खुद से जुदा उनको पाया नहीं करते !

प्यार का मुझको नशा है तो हुस्न का उनको
हम मयकदों में वक़्त कभी ज़ाया नहीं करते !

मुस्कुराहटों में छुपा लेते हैं अपने ग़म सभी
हम रंजिशों का जहर कभी खाया नहीं करते !

वो हम साया सा बनके रहता है हरदम साथ
फिरभी हम दीदारे हुस्न का दावा नहीं करते !

जब जब मिले ‘मिलन’ नए अंदाज़ में मिले
पर बाग़ में हर फूल ही मन भाया नहीं करते !!

मिलन “मोनी”

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: