Asteeno me

7 May

सांप आस्तीनों में पल न पायेंगे
हमारे दुश्मन हमें छल न पायेंगे

मंजिल तक पहुंचना आसाँ नहीं
ये रस्ते सफर पे चल न पायेंगे

जितने घने हो चले हैं ये अँधेरे
चराग भी उतना जल न पायेंगे

ग़मों में आज इतना मुस्कुरा के
मुसीबतों का कोई हल न पायेंगे

रात और दिन इस तरह रोज़ ही
‘मिलन’सूरज सा ढल न पायेंगे !!

मिलन “मोनी”

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: