Archive | February, 2016

Chupa Kar Dard

14 Feb

छुपा कर दर्द अपना, कभी मुस्कुरा लिया हमने,
वक़्त मिला जब भी, कुछ गुनगुना लिया हमने,

दिल का आयना भी अश्कों को, देख नहीं पाया,
चेहरे को यकबयक इस कदर छुपा लिया हमने,

हर तरफ उनका ही अक्स नज़र आता है हमको,
इस कदर अपनी नज़रों में उसे बसा लिया हमने,

भागती फिरती हैं मेरी तो परछाईयां अब मुझसे,
प्यार की रौशनी से घर अपना सजा लिया हमने,

छोड़ जो दिया इस ज़माने ने मझधार में “मिलन”
उन कश्तियों को भी किनारे से लगा दिया हमने.

छुपा कर दर्द अपना, कभी मुस्कुरा लिया हमने,
वक़्त मिला जब भी, कुछ गुनगुना लिया हमने,

मिलन ‘मोनी’

Deejiye gham

3 Feb

दीजिये ग़म, मुझे बेपन्हा दीजिये
प्यार करने की कुछ सज़ा दीजिये

इतने खामोश रहते क्यों हो सनम
बात नज़रों से ही, सब कह दीजिये

आसमान है तू, तो मैं एक ज़मीन
मोहब्ब्त से ये दोनों मिला दीजिये

दो कदम तुम चलो, दो कदम हम
फासला दो दिलों का मिटा दीजिये

तुझे अच्छा लगे या बुरा कुछ सही
टूटने से मेरा दिल तो बचा दीजिये

दिल में छुपा राज़ क्या है ‘मिलन’
बातों बातों में वो सब बता दीजिये