Shamma jali toh

11 Oct

    शम्मा  जली  तो 

शम्मा  जली  तो  दिल  मेरा  परवाना  हो  गया ,

देखा  तुम्हें   तो  इश्क  मे  ये  दीवाना  हो  गया.[१]

जब  तक  वो  सामने  थे  मै  होश  मे  नहीं  था,

वस्ले-शब्  का  ये  आलम  तो  मैख़ाना  हो  गया.[२].

झटकी  जो  ज़ुल्फ़  उसने   शायराना  अंदाज़ मे,

मौसम  भी  बस  गज़ब  का  मस्ताना  हो  गया .[३]

होती  है  कातिलाना  बहुत  हर  हुस्न  की  अदा ,

दिल  भी  मेरा  शायद  इसका  निशाना  हो  गया  .[४]

कहना  था  कुछ  और  कुछ  निकला  जुबान  से  ,

खुद  अपने  आप  से  भी  मै  बेगाना  हो  गया .[५]

जाने लगे  तो  तुमने  यूहीं  क्या  मुस्कुरा  दिया  ,

हमको  भी  दर्दे-दिल  का  एक  अंदाज़ा  हो  गया  [६].

शम्मा  जली  तो  दिल  मेरा  परवाना हो  गया  ,

देखा  तुम्हें  तो  इश्क  मे  ये  दीवाना  हो  गया  .

  ——————————————————-

मिलन   १४/०२/२००७

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: